काशीपुर निगम पर आप प्रत्याशी दीपक बाली ने लगाया करोड़ों का घोटाले का आरोप

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

काशीपुर में आप प्रत्याशी एवं चुनाव कैंपेन कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक बाली ने नगर निगम के कामकाज पर गंभीर आरोप लगाए हैं कूड़ा तौल में करोड़ों के खेल होने की बात करते हुए दीपक बाली ने राज्यपाल को पत्र लिखकर पूरे प्रकरण की एसआईटी जांच कराने और दोषी पाए जाने पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है नगर निगम से सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत मिली जानकारी के आधार पर दीपक बाली ने उक्त आरोप लगाये हैं

उन्होंने विधायक हरभजन सिंह चीमा और मेयर ऊषा चौधरी पर लापरवाही का आरोप लगाया है जिसके चलते काशीपुर नगर निगम में कूड़ा निस्तारण को लेकर जो अनुबंध किए गए उनमें करोड़ों रुपए के बंदरबांट किये गये जिस धर्मकांटे पर कूड़े का तौल दिखाया गया है वह काशीपुर क्षेत्र में है ही नहीं शुभ दर्शन नाम के इस धर्म कांटे का माप तौल कार्यालय में पंजीकरण भी नहीं है इसका लिखित पत्र माप तौल विभाग ने दिया निगम की तरफ शुभ दर्शन धर्म कांटे के नाम की जो पर्ची लगाई गई है उस पर उसका कोई पता भी नहीं लिखा है

बाली ने बताया कि 1 अप्रैल 2019 से दिए गए कूड़ा निस्तारण के ठेके की अवधि 3 वर्ष थी मगर संदिग्ध कारणों के चलते यह ठेका मात्र 17 महीने में खत्म कर दिया गया उक्त तिथि से 17 महीने तक औसतन जो खर्च आया वह 42 से 69 लाख रुपए प्रतिमाह तक पहुंच गया दीपक बाली ने कहा उनकी सक्रियता के बाद आनन फानन में नया अनुबंध किया गया और नई कंपनी के साथ वही खर्च अगले अनुबंध में मात्र साढ़े 26 लाख रुपये रह गये मेयर को जवाब देना चाहिए कि जो कूड़ा पूर्व में 42 से 69 लाख रुपये प्रतिमाह तक उठाया जा रहा था वह मेरे राजनीति में आने के बाद मात्र साढ़े 26 लाख रुपये प्रतिमाह क्यों हो गया इसका मतलब 17 माह तक जनता के खून पसीने की कमाई को दोनों हाथों से लूटा गया

उन्होंने कहा कि नगर निगम में 25 लाख से ऊपर का काम होने पर ई टेंडरिंग का प्रावधान है लेकिन इसमें यह भी नहीं किया गया जिन वाहनों से कूड़ा उठान और तौल दिखाये गये हैं वह गाड़ी नंबर न देकर व्यक्ति का नाम दिया गया है टेंडर की प्रक्रिया में शासन से नियुक्त नगर स्वास्थ्य अधिकारी को क्यों नहीं शामिल किया गया? उनकी जगह एक स्थानीय कर्मचारी को चार्ज देकर नगर स्वास्थ्य अधिकारी की भूमिका अदा कराई गई इस मामले पर मेयर ऊषा चौधरी का कहना है कि स्वास्थ्य बेहतर न होने के चलते उनके संज्ञान में उक्त मामला नहीं है इसके बारे में जानकारी के बाद ही मीडिया के सामने अपना पक्ष रखूंगी

rudranews
Author: rudranews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

FOLLOW US

RELATED STORIES

live cricket Update

Stock Market

हमसे अन्य सोशल मीडिया में जुड़े