यूक्रेन और रूस पर बंटने लगी दुनिया भारत का क्या है रुख

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

रूस और यूक्रेन के बीच जारी संघर्ष ने पूरी दुनिया को दोफाड़ कर दिया है एक तरफ अमेरिका समेत तमाम नाटो देशों ने रूस की आक्रामक कार्रवाई की निंदा की है तो वहीं भारत और चीन जैसे बड़े राष्ट्रों ने इस पूरे विवाद पर तटस्थता बरती है रूस ने इस तनाव के लिए अमेरिका और उसके सहयोगी देशों को जिम्मेदार ठहराया है संयुक्त राष्ट्र में रूसी राजनयिक ने कहा कि अमेरिका और उसके पश्चिमी सहयोगियों ने यूक्रेन को सैन्य कार्रवाई के लिए उकसाने का काम किया है

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मीटिंग में सोमवार रात रूसी राजनियक वैसिली नेबेंजिया ने यूक्रेन पर आरोप लगाया कि उसकी ओर से लुहान्सक और डोनेत्सक इलाके में बम फेंके जा रहे हैं इन दोनों ही इलाकों को रूस ने यूक्रेन से अलग प्रांतों के तौर पर मान्यता दे दी है उन्होंने कहा कि यूक्रेन ने 1 लाख 20 हजार सैनिकों को पूर्वी यूक्रेन में तैनात किया है जहां रूसी समर्थक अलगाववादी सक्रिय हैं इस बीच जापान और दक्षिण कोरिया जैसे देशों ने रूस की कार्रवाई का विरोध किया है साउथ कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन ने यूक्रेन की संप्रभुता का समर्थन किया

राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े अधिकारियों संग मीटिंग के बाद मून जे इन ने यूक्रेन विवाद के बीच आर्थिक सुरक्षा के मसले पर चर्चा की जापान के पीएम फुमियो किशिडा ने रूस की निंदा करते हुए कहा कि उसने यूक्रेन की संप्रभुता से खिलवाड़ करने का काम किया है यही नहीं उन्होंने रूस पर प्रतिबंध लगाने की भी धमकी दी है उनका कहना है कि जापान रूस के खिलाफ कड़े प्रतिबंधों को लागू करने पर विचार करेगा इस बीच भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मीटिंग में किसी एक पक्ष का समर्थन या विरोध करने की बजाय संयम बरतने की अपील की है इसके अलावा चीन भी भारत की तरह ही कुछ भी टिप्पणी करने से बच रहा है

चीन का कहना है कि इस विवाद का हल यूएन चार्टर के तहत शांतिपूर्ण तरीके से होना चाहिए यूएन में चीन के अंबेसडर झांग जुन ने कहा कि सभी पक्षों को शांति बरतने पर फोकस करना चाहिए और कूटनीतिक ढंग से विवाद हल करने पर काम होना चाहिए इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन भी खुलकर यूक्रेन के समर्थन में आए हैं उनका कहना है कि रूस को तत्काल पूर्वी यूक्रेन से पीछे हटना चाहिए जहां उसने अपनी सेनाओं को भेजना का आदेश दिया है न्यूजीलैंड ने भी यूक्रेन में रूसी कार्रवाई का विरोध किया है इन देशों के अलावा जर्मनी फ्रांस और ब्रिटेन जैसे देश भी रूस के खिलाफ हैं

rudranews
Author: rudranews

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FOLLOW US

RELATED STORIES

live cricket Update

Stock Market

हमसे अन्य सोशल मीडिया में जुड़े