रूस-यूक्रेन युद्ध से क्या भारत पर पड़ेगा असर

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin

रूस और यूक्रेन के बीच बढ़ रहा तनाव अब युद्ध का रूप ले चुका है सूत्रों के मुताबिक रूस ने यूक्रेन की राजधानी कीव समेत कुल 11 शहरों पर आक्रमण किया है कई विशेषज्ञों का कहना है कि ये युद्ध एक नए वर्ल्ड ऑर्डर की ओर हमें ले जा रहा है इसके कई खतरनाक परिणाम विश्व को भुगतने पड़ सकते हैं आज की इस वैश्विक दुनिया में हर देश दूसरे देश से परस्पर रूप से जुड़ा हुआ है ऐसे में इस युद्ध का व्यापक प्रभाव भारत पर पड़ेगा रूस यूक्रेन युद्ध भारत की राजनीतिक सामरिक और आर्थिक स्थिति को बड़े स्तर पर प्रभावित करने वाला है

कई विशेषज्ञों का कहना है कि भारत इस समय बीच मझधार में फंस चुका है उसके लिए ये तय कर पाना काफी मुश्किल हो गया है कि यूरोप या रूस किसके साथ जाना सही रहेगा ऐसे में इस युद्ध ने आज दोबारा गुटनिरपेक्षता की नीति को प्रासंगिक कर दिया है ये युद्ध अगर आने वाले समय में एक बड़ा रूप लेता है तो इससे भारत की अर्थव्यवस्था बुरे तौर पर प्रभावित होगी इसी कड़ी में आज हम जानेंगे कि रूस यूक्रेन युद्ध का भारत की महंगाई पर क्या असर होगा भारत और यूक्रेन के बीच एक मजबूत व्यापारिक संबंध है यूक्रेन के लिए भारत 15वां सबसे बड़ा निर्यात बाजार है वहीं दूसरी ओर भारत के लिए यूक्रेन 23वां सबसे बड़ा एक्सपोर्ट मार्केट है ऐसे में ये युद्ध दोनों देशों के व्यापारिक हितों को बुरी तौर पर प्रभावित करने वाला है

भारत बड़े पैमाने पर कुकिंग ऑयल यूक्रेन से आयात करता है इसके अलावा लोहा स्टील प्लास्टिक इनॉर्गनिक केमिकल्स आदि कई वस्तुओं को यूक्रेन से इम्पोर्ट करता है वहीं दूसरी तरफ यूक्रेन के अलावा कई यूरोपीय देशों में भारत दवा बॉयलर मशीनरी मैकेनिकल अपल्यांस आदि चीजों का निर्यात करता है ऐसे में इस युद्ध से दोनों देशों के बीच आयात-निर्यात होने वाली ये वस्तुएं बंद हो जाएंगी जिसका सीधा असर देश की महंगाई पर पड़ेगा इस युद्ध के कारण आने वाले समय में कई जरूरी वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि हो सकती है भारत अब तक बड़े पैमाने पर कुकिंग ऑयल को यूक्रेन से इम्पोर्ट करता आ रहा था युद्ध के चलते अब इसका आयात हम यूक्रेन से नहीं कर पाएंगे ऐसे में भारत सरकार सनफ्लावर ऑयल के आयात के लिए दूसरे देशों के विकल्प की तलाश कर रही है

हालांकि उन देशों पर इसके आयात के लिए इतनी जल्दी शिफ्ट होना आसान नहीं होगा ऐसे में कुकिंग ऑयल की कीमतें आने वाले समय में बढ़ सकती हैं इसके अलावा यूक्रेन रूस युद्ध वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को बुरी तरह प्रभावित करने का काम करेगा कोरोना महामारी के बाद ग्लोबल सप्लाई चेन पर वैसे ही बुरा असर पड़ा था हालांकि महामारी थमने के बाद इसमें कुछ सुधार हुआ था वहीं ये युद्ध फिर से वैश्विक आपूर्ति श्रंखला को बाधित करने वाला है।इससे भारत ही नहीं बल्कि विश्व के कई देशों में महंगाई बढ़ेगी अगर यह युद्ध आने वाले समय में और भी ज्यादा बढ़ता है तो इससे क्रूड ऑयल की कीमतों में भी एक बड़ी वृद्धि देखने को मिलेगी क्रूड ऑयल की कीमतों के बढ़ने से देश की मुद्रास्फीति रिकॉर्ड तेजी से बढ़ सकती है

rudranews
Author: rudranews

Leave a Reply

Your email address will not be published.

FOLLOW US

RELATED STORIES

live cricket Update

Stock Market

हमसे अन्य सोशल मीडिया में जुड़े